लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं सरकार द्वारा लागू की जा चुकी है जरूरत है तो वह ढूंढने की वह समझने कीअतः इस पूरे लेख को ध्यान से पढ़ें। 

लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं

सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या योजना केंद्र सरकार की योजना है और इस योजना की शुरुआत बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के अंतर्गत की गई है। यह एक छोटी सी बचत योजना है और इस योजना के तहत व पोस्ट ऑफिस में लड़कियों के नाम पर खाता खुलवाया जाता है बताओ मुझे कुछ पैसे वार्षिक और मासिक के आधार पर जमा करवाए जाते हैं। 

इस योजना के तहत जमा किए गए पैसों में ब्याज भी अच्छा मिलता है और इसके साथ ही जब लड़की की शादी  का समय आता है तो यह पैसा उसके काम आता है। हर महीने ₹250 जमा करने होते हैं ताकि योजना का लाभ लिया जा सके।

सीबीएसई छात्रवृत्ति योजना

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन में अच्छे नंबर लाने वाली लड़कियों को इस योजना का लाभ छात्रवृत्ति के रूप में मिलता है। छात्रवृत्ति योजना के तहत कक्षा 12 में जब छात्राएं 60% मार्क्स ले आएंगी तो उन्हें हर माह ₹500 सीधे उनके खाते में मिलेंगे। इस योजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर लड़कियों को बढ़ावा देने की कोशिश की जा रही है ताकि वह अपनी मेहनत से अच्छा मौका का भरपूर फायदा उठा सकें।  

बालिका समृद्धि योजना

यह योजना भी लड़कियों को बढ़ावा देने के लिए बनाई गई है। बालिका समृद्धि योजना के अंतर्गत लड़कियों के जन्म के अवसर पर उनकी माताओं को ₹500 दिए जाएंगे और जब लड़कियां स्कूल जाने लायक हो जाएंगी तो उस समय भी उन्हें आर्थिक सहायता मिलेगी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य लड़कियों के जन्म, शिक्षा और परवरिश के प्रति लोगों को जागरूक करना है। 

बालिका समृद्धि योजना के तहत मिलने  वाली आर्थिक मदद का प्रारूप

लड़कियों के स्कूल में प्रवेश लेते समय मिलने वाली राशि  ₹300 है।

बालिकाओं के कक्षा चार में प्रवेश लेने पर ₹500 मिलेंगे। 

जब बालिक है पांच में प्रवेश कर जाएगी तो उन्हें ₹600 मिलेंगे।

कक्षा 6 और 7 में प्रवेश लेने पर ₹700 बालिकाओं को दिए जाएंगे।

बालिकाओं के  कक्षा आठ में पहुंचने परउन्हें ₹800 दिए जाएंगे।

 बालिकाओं के कक्षा 9 और 10 में पहुंचने पर उन्हें ₹1000 की राशि दी जाएगी। 

मुख्यमंत्री राजश्री योजना

राजस्थान सरकार के द्वारा राजस्थानी बालिकाओं के लिए चलाई गई योजना है। राजस्थान सरकार लड़कियों के जन्म के समय पर उन्हें राशि देती है। इस योजना का नाम लड़कियों को जन्म से लेकर शिक्षा तक मिलता है।  लड़कियों के जन्म के अवसर पर उनकी माताओं को ₹2500 ऑनलाइन या चेक के माध्यम से दिए जाते हैं। स्कूल में प्रवेश लेने पर  बालिका के खाते में ₹4000 की राशि भेजी जाती है। कक्षा 6 में पहुंचने पर 5000 तथा कक्षा 11 में पहुंचने पर ₹11000 की राशि बालिका को आर्थिक मदद हेतु दी जाती है।

मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना

यह बिहार सरकार द्वारा चलाई गई योजना है। इस योजना के तहत बिहार की हरी लड़की को ₹2000 की राशि दी जाती है। इस योजना का लाभ केवल बिहार राज्य में रहने वाली या जन्म लेने वाली लड़की को मिलेगा 

माजी कन्या भाग्यश्री योजना

भारत सरकार की योजनाएं

महाराष्ट्र सरकार द्वारा योजना चलाई जाती है। इस योजना के तहत महाराष्ट्र में जन्मी हर लड़की को जन्म से लेकर 5 साल तक ₹5000 दिए जाते हैं। कक्षा 5 में पहुंचने पर बालिका को ₹2500 की मदद दी जाती हैतथा कक्षा 12 में पहुंचने पर लड़की को ₹3000 की आर्थिक सहायता दी जाती है। 18 वर्ष के बाद बालिका को शादी के मौके पर ₹100000 की आर्थिक सहायता दी जाती है।

लड़कियों की माध्यमिक शिक्षा के लिए राष्ट्रीय प्रोत्साहन योजना बनाई गई है। इस योजना का उद्देश्य माध्यमिक विद्यालय में महिलाओं की अनुसूचित जनजाति को नामांकन के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। बीच में पढ़ाई छोड़ कर जाने वाली लड़कियों की संख्या में कमी लाई जा सके इसके साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जा सके कि 1 बालिकाओं को 18 वर्ष की उम्र तक करा शिक्षा मिल रही है। आप इस योजना के बारे में, इसके उद्देश के उद्देश्य के बारे में, कार्यरत एजेंसी, लक्ष्य वर्ग एवं अनुदान इत्यादि के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

स्कूलों में सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी संबंधित योजना के बारे में जानकारी

इस योजना का उद्देश्य माध्यमिक स्तर के छात्रों को ऐसे साधन उपलब्ध करवाना है ताकि उनमें कंप्यूटर संबंधित कौशल डेवलप हो सके और कंप्यूटरकृत शिक्षा की मदद से उनमें सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी संबंधित कौशल क्षमता बनाई जा सके। 

माध्यमिक शिक्षा के व्यवसायीकरण संबंधित योजना

केंद्र सरकार की यह योजना शैक्षिक अवसरों में विविधता प्रदान करती है। यह योजना व्यक्ति विशेष के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाती है। इस योजना के अंतर्गत कुशल कर्मियों की मांग एवं पूर्ति के अंतर को कम किया जा सकेगा तथा उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले व्यक्तियों के पास उचित विकल्प हो। आप इस योजना, इसके उद्देश्य, क्रियान्वयन, वित्तीय सहायता दिए जाने के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

प्रौढ़ शिक्षा के लिए स्वैच्छिक एजेंसियों की सहायता के लिए योजना की जानकारी

इस योजना का मुख्य उद्देश्य संपूर्ण साक्षरता अभियान के माध्यम से निरक्षरता को पूरी तरह से जड़ से उखाड़ना है। योजना के उद्देश्य लक्ष्य निर्धारित करना एवं शिक्षा केंद्रों की स्थापना करना है। लक्ष्य निर्धारित कार्यक्रम जैसे समानक कार्यक्रम जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने वाले कार्यक्रम एवं व्यक्तिगत हेतु संबंधी कार्यक्रम को सही तरीके से क्रियान्वित करना है ताकि व्यक्ति विशेष को जीवन भर शिक्षा का अधिकार मिल सके। 

स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग

इस योजना के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग का मुख्य कार्य अलग-अलग योजनाओं और कार्यक्रमों के माध्यम से स्कूल शिक्षा को बढ़ावा देना है। सर्व शिक्षा अभियान, प्राथमिक शिक्षा, प्राथमिक शिक्षा संस्थान तथा मिड-डे मील जैसी शैक्षिक योजना के बारे में जानकारी दी गई है। 

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की वेबसाइट

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई के बारे में जानकारियां से प्राप्त करें। परीक्षा पाठ्यक्रम, पुस्तक,  छात्रवृत्ति तथा  पहले के परीक्षा परिणाम का सत्यापन की जानकारी भी यहां से प्राप्त कर सकते हैं। सीबीएसई के प्रधानाचार्य के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम शारीरिक शिक्षा एवं खेलकूद।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *