expressway

यदि आप भी जानना चाहते हैं दिल्ली देहरादून एक्सप्रेस वे कब से खुलेगा तो आपको बता दूं कि केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी का यह ड्रीम प्रोजेक्ट है और 6 मार्च को उन्होंने ऋषिकेश में घोषणा की थी कि दिसंबर 2023 तक दिल्ली देहरादून एक्सप्रेस-वे का काम पूरा हो जाएगा और जनवरी 2024 में यह एक्सप्रेस आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा।

यह एक्सप्रेसवे केवल दिल्ली से देहरादून का रास्ता छोटा कर देगा। फिलहाल लोगों को देहरादून से दिल्ली जाने में लगभग 6-7 घंटे का समय लगता है किंतु दिल्ली देहरादून एक्सप्रेसवे द्वारा यह सफर केवल ढाई घंटे में पूरा किया जा सकेगा। फिर चाहे आपको  दिल्ली से देहरादून आना हो या देहरादून से दिल्ली जाना हो सफर पूरा करने में केवल ढाई घंटे ही लगेंगे। 

केंद्र परिवहन मंत्री  नितिन गडकरी का ड्रीम प्रोजेक्ट

इस रूट से आने वाली बस जब दिल्ली से देहरादून की ओर चलेगी तो वह ज्यादा स्टॉप पर नहीं रुकेगी क्योंकि  अधिकांश रास्ता हाईवे का होगा। 

राजाजी नेशनल पार्क के इको सेंसेटिव एरिया से होते हुए आखिरी 20 किलोमीटर का सफर तय होगा, यहां 6 लेन 12 किलोमीटर लंबा, ऊंचा वाइल्डलाइफ कॉरिडोर बनाया जाएगा जो कि एशिया का सबसे लंबा व ऊंचा वाइल्डलाइफ कॉरिडोर होगा। इसमें डाट काली वाली 340 मीटर लंबी सुरंग भी शामिल है यह सुरंग वाइल्डलाइफ जानवरों पर गाड़ियों के असर को कम करेगी जैसे जानवरों और गाड़ियों के टकराव को कम करने के लिए गणेशपुर देहरादून में कई एनिमल सुरंग पास बनाए गए हैं।  

नितिन गडकरी ने अपने भाषण में यह भी कहा कि हिमालय के मंदिरों का दर्शन श्रद्धालु केवल 6 महीनों तक ही चार धाम यात्रा कर पाते हैं लेकिन ऑल वेदर रोड रोड प्रोजेक्ट शुरू हो जाने के बाद वे साल भर हिमालय के मंदिरों के दर्शन कर पाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि किस प्रकार से रोपवे प्रोजेक्ट श्रद्धालुओं की भीड़ में इजाफा कर सकते हैं और उनके लिए रास्तों को सुगम बना सकते हैं।पीएम मोदी ने रुपए का शिलान्यास 2022 में किया था यह दुनिया का सबसे लंबा रोपवे है जो कि 12.97 किलोमीटर लंबा तथा 11500 फ़ीट की ऊंचाई पर सोनप्रयाग से हिमालय के मंदिर तक जाता है। 

दिल्ली देहरादून एक्सप्रेसवे रूट मैप कंप्लीट

दिल्ली सहारनपुर नेशनल हाईवे 709 B के अक्षरधाम से ईस्टर्न पेरीफेरल हाईवे जंक्शन तक 2820 करोड रुपए की लागत से बना है। यह 6 लेन एक्सेस कंट्रोल हाईवे 31.03 किलोमीटर लंबा है।

यह परियोजना दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे के अक्षरधाम से प्रारंभ होगी और गीता कॉलोनी, सीलमपुर, शास्त्री पार्क, खजूरी खास, भजनपुरा, वजीराबाद, करावल नगर, लोनी, मंडोला, खेरका आदि को जोड़ते हुए ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे तक जाएगी। यह 16 जन एक्सप्रेस कंट्रोल हाईवे रहेगा जिस पर प्रवेश एवं निकास के लिए प्रमुख मार्गो से इंटरचेंज बनाए गए हैं। इस हाईटेक राजमार्ग पर गति की सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटा होगी और बिना रुकावट सुचारू यात्रा सुनिश्चित की जाएगी। 

यात्रा के डिस्टेंस को विभिन्न खंडों अथवा पैकेज में विभाजित किया गया है। प्रथम पैकेज अक्षरधाम से शुरू होगा और कुल लंबाई 14.75 किलोमीटर होगी इसमें गीता कॉलोनी से लेकर खजूरी खास तक 7 किलोमीटर का सफर एलिवेटेड होगा। यह राजमार्ग दिल्ली शाहदरा एवं नई दिल्ली आनंद विहार रेलवे लाइन और शाहदरा आईएसबीटी मेट्रो रेड लाइन को पार करेगा। इस भाग में 10 बड़े और 15 छोटे जंक्शन का निर्माण किया गया है। 

पैकेज 2 में उत्तर प्रदेश राज्य में योजना के द्वितीय चरण की लंबाई 16.57 किलोमीटर होगी मावि पुलिस चौकी से मावि गांव तक 12.20 किलोमीटर लंबाई एलिवेटेड होगी। इस भाग में 3 अंडरपास, पांच बड़े जंक्शन व 19 छोटे जंक्शन बनाए गए हैं। इस परियोजना को सुरक्षित बनाने के लिए हाईवे के दोनों और सर्विस लेन बनाए जाएंगे तेजी से चलने वाले वाहन सिर्फ मुख्य हाइवे पर चलेंगे। 

दिल्ली देहरादून एक्सप्रेसवे रुड़की, हरिद्वार नहीं जाएगा यह हाईवे का एक बड़ा ड्रॉबैक बनकर सामने आएगा क्योंकि हर साल हजारों और लाखों की तादाद में सैलानी या श्रद्धालु हरिद्वार आते हैं फिर सरकार ने इसे कैसे मिस कर दिया इस पर जरूर भविष्य में संसद में चर्चा होगी। 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *