आज हम जानेंगे की हार्डवेयर की दुकान कैसे शुरू करें और हार्डवेयर की दुकान का प्रचार कैसे करें तथा दुकान का लाइसेंस कहाँ से मिलता है और इसके आलावा कई बाते जो हार्डवेयर की शॉप खोलने के लिए ज़रूरी हैं।

हार्डवेयर शॉप इनफार्मेशन

हार्डवेयर की दुकान खोलने से पहले यह ज़रूरी है की उसके सामान की पूरी तरह से जानकारी ले लें। यदि आपको सामान की अच्छी और बारीक जानकारी होगी तो आपको वर्कर रखने और उनसे काम करवाने में आसानी होगी और साथ ही हार्डवेयर दुकान की मार्केटिंग करने में आसानी होगी यानि ग्राहक ढूंढ़ने के तरीके आपको खुद ही पता चल जाएंगे क्योंकि शुरू में आपके ग्राहक बंधे नहीं होंगे वे किसी और के होंगे और अगर आप बाकी हार्डवेयर शॉप से अच्छा सस्ता और रेगुलर सामान देंगे तो आपके ग्राहक बंधेंगे पर यह सब कुछ मुमकिन होगा बेस से यानि पहली सीढ़ी से और पहली सीढ़ी यह है की सामन के रेट और उसकी क्वालिटी का सही आंकलन करें।

हार्डवेयर की दुकान कैसे करें – हार्डवेयर की दुकान के बारे में बातें करने से कुछ नहीं होगा यदि आप वाकई में एक प्रॉफिट मेकिंग हार्डवेयर शॉप खोलना चाहते हैं तो आपको लगातार मेहनत करनी होगी वो भी एक रणनीति के साथ। किसी अच्छे होलसेलर से हार्डवेयर दुकान शुरू करने से पहले से ही अच्छे संपर्क बना लें और उससे कुछ सामन खरीदते रहें ऐसा करने से आपको उस होलसेलर के दुकान के सामान की क्वालिटी का भी पता चलेगा और हार्डवेयर सामान के सही रेट का भी अंदाजा लग जाएगा।

हार्डवेयर की दुकान का सामान

हार्डवेयर की दूकान कैसी होनी चाहिए और हार्डवेयर की दुकान का फर्नीचर क्या होना चाहिए ऐसे कई सवाल आपके मन में आते होंगे तो ये जान लें की हार्डवेयर के अंतर्गत कई सामान आते हैं जैसे रस्सी, कील, पाइप, स्टेपल, पेंच, हथोड़ा, नल, जूट की रस्सी, कंटेनर, प्लस, टेप, प्लास्टिक नल, शीशे, वाल मिरर, दरवाज़े की पत्तियां, दरवाज़ा रोकने वाले खडंचे इत्यादि। सरल शब्दों में समझा जाए तो ऐसे तमाम सामन जिनका इस्तेमाल कारपेंटर, मिस्त्री, मैकेनिक तथा घर बनाने वाले सामान में किया जाता है। यहाँ तक की सड़क बनाने के लिए भी हार्डवेयर के सामन की ज़रूरत होती है।

नोट – हमारी तरफ से यह सुझाव है की दुकान खोलने के शुरुआती दौर में सारे हार्डवेयर सामान ना खरीदें बल्कि वही सामन खरीदें जिनकी बिक्री ज़्यादा होती है और जब दूकान सैट हो जाए यानी जम जाए तब सभी प्रकार के सामान रख लें।

हार्डवेयर स्टोर कैसे खोलें

हार्डवेयर शॉप खोलने की प्रक्रिया – सबसे पहले तो आपको एक अच्छी जगह का चयन करना होगा जहाँ मार्किट की गुंजाईश भी हो और वह जगह लोगों की पहुँच में हो। जगह का चुनाव अपने बजट के हिसाब से करें और उसके बाद आपको दुकान में कई छोटे बड़े कंस्ट्रक्शन करवाने होंगे और अब एक नाम की आवश्यकता है जिससे आपकी दुकान जानी जाएगी। फिर दुकान में फर्नीचर और बाकी सामन भी रख लें। आइए इन्हे विस्तार से समझते हैं –

construction hardware store

स्टोर की शुरुआत – दुकान का चयन करने के बाद भीतर इस तरह से निर्माण करवाएं की लम्बे पाइप्स रखने की सही जगह बन सके। कुछ केबिन्स बनवा लें ताकि सामन एक व्यवस्थित ढंग से रखा जा सके ताकि ज़रूरत पड़ने पर सामान को ढूंढ़ना ना पड़े साथ ही फर्नीचर भी रखवा लें। कोशिश करें की माचिस के डब्बे जैसे आकर वाली दुकान का चुनाव करें जो की फ्रंट से तो कम हो पर गहराई यानि लम्बाई ज़्यादा हो ताकि आपका सारा सामान पीछे की और सेटल हो सके और फ्रंट में आपका टेबल हो जिससे आप कस्टमर से सीधे डील कर सकें। ऐसी दुकानों में सामान भी ज़्यादा आता है और आपको लम्बे पाइप रखने में सुविधा भी मिलेगी

हार्डवेयर का सामान कहाँ से खरीदें (where to buy hardware products)

हार्डवेयर का सामान कहाँ मिलता है – हार्डवेयर शॉप शुरू करने से पहले हार्डवेयर बिज़नेस प्लान ज़रूर बना लें इसमें आपको करना सिर्फ इतना है की दुकान तुरंत ना खोलें भले ही दुकान के बारे में पता करते रहें। बिज़नेस प्लान के अनुसार दुकान आप 6-7 महीने बाद खोलें और इस दौरान एक अच्छा लोकेशन पर सस्ती दुकान खोजने के अलावा 6 से 8 थोक विक्रेता यानि होलसेलर से मिलते रहें और उनसे लगातार 6-7 महीने तक सामान खरीदते रहें यही सामान बाद में अपनी दुकान पर भी रख सकते हैं और किसी जानकार को जिनके घर कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा हो उन्हें सामान दिलाने में मदद करें या उनके साथ जाकर उनके थोक विक्रेता को भी चेक करें। यदि आप यह काम लगातार 6 से 7 महीने तक करेंगे तो इससे आपको सामान की अच्छी जानकारी हो जाएगी और साथ ही यह भी पता चल जाएगा की कौन सा थोक विक्रेता ज़्यादा सस्ता और अच्छा सामन बेचता है ताकि आप दुकान खोलने पर उससे या उसके जैसे 1 से 2 विक्रेताओं से सामन खरीद सकें। इस 6 महीने में एक फायदा यह भी होगा की आपको दुकान एक अच्छी जगह पर खोलने के लिए 6 महीने का वक्त भी मिल जाएगा।

हार्डवेयर दुकान की जानकारी FAQ

हार्डवेयर दुकान का नाम क्या रखें

यह सवाल तो शुरू में ही मन में आ जाता है पर नाम रखने से पहले यह ध्यान रखें की जो भी नाम होगा उससे ना सिर्फ आपकी दुकान की पहचान होगी बल्कि आपकी भी पहचान होगी इसलिए नाम अपने बिज़नेस से मिलता जुलता या अपनी पसंद का कोई अच्छा सा नाम रखें जिसे बार बार बदलने की ज़रूरत ना पड़े। नाम रखने के बाद एक अच्छा सा बोर्ड बनवा लें जिसमे अपनी हार्डवेयर शॉप का नाम, अपना नाम और मोबाइल नम्बर भी छपवा लें और साथ ही अपनी दुकान के नाम के कार्ड भी छपवा लें। हार्डवेयर दुकान का नाम लिस्ट आप अपने घर के सदस्यों के साथ मिल कर भी तैयार कर सकते हैं पर ध्यान रहे नाम आपके व्यवसाय से जुड़ता नज़र आना चाहिए ताकि लोग नाम पढ़ते ही पहचान जाएं की यह किस चीज़ की दुकान है।

शॉप का लाइसेंस कैसे बनाएं

हार्डवेयर शॉप लाइसेंस – सर्वप्रथम आपको अपनी दुकान को भारतीय दुकान और स्थापना अधिनियम के तहत पंजीकृत करवाना होगा। लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको उसी राज्य की स्थानीय नगर पालिका से संपर्क कर लाइसेंस का आवेदन करना होगा जिस राज्य में आप दुकान खोल रहे हैं यहाँ एक बात समझ लें की यदि आप पंजाब के रहने वाले है और दिल्ली में दुकान खोना चाहते हैं तो आपको दिल्ली के उस स्थान की नगर पालिका से लाइसेंस प्राप्त करना होगा जिस स्थान में आप शॉप खोलना चाहते हैं। आप वकील की मदद से भी लाइसेंस की प्रक्रिया को अंजाम दे सकते हैं।

Gst hardware shop

दुकान खोलने से पहले आपको आयकर पंजीकरण करवा लेने होंगे यानि की टैक्स सम्बंधित जानकारी देनी होगी। आज की तारिख में डिजिटल इंडिया को बढ़ावा दिया जा रहा है और ऐसे में सभी दुकानदारों को GST नंबर लेना अनिवार्य है वरना आपकी दुकान के खिलाफ कोई कार्यवाही भी हो सकती है। टैक्स के विषय में आप किसी लोकल अकाउंटेंट से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Hardware store insurance

अपनी दुकान का बिमा अवश्य करवा लें दुकान का व्यपार बिमा होता है। यदि इत्तफाक से आपकी दुकान को कोई फिजिकल नुकसान होता है तो आप बीमा का इस्तेमाल कर सकते हैं और नुकसान को पूरी तरह खत्म तो नहीं पर काफी हद तक कम कर सकते हैं इसलिए व्यपार बिमा करवाना ना भूलें।

अधिक मुनाफा कमाने की तरकीब

दुकान से पैसे कैसे कमाए – सबसे पहले तो आपको उन तमाम लोगो से सम्पर्क करना होगा जो इस व्यवसाय से जुड़े हैं जैसे कारपेंटर, मिस्त्री, पेंट वाले आदि। इनके आलावा घर बनाए वाले ठेकेदारों से भी जुड़ें क्योंकि वे बड़े लेवल पे सामन उठाते हैं।

ऑनलाइन स्टोर बनाएं – आजकल ऑनलाइन स्टोर और वेबसाइट का ज़माना है इसलिए अपना एक ऑनलाइन स्टोर भी बना लें जिसके ज़रिये आप सामान बेच सकते हैं। मीशो, अमेज़न, फ्लिपकार्ट आदि ऐसी कंपनियां हैं जिनका आपने नाम सुना होगा इनके अलावा इंस्तामोजो और रेज़रपे जैसे ऑनलाइन स्टोर्स पर भी अकाउंट बनाकर अपना प्रोडक्ट बेच सकते हैं।

वेबसाइट का इस्तेमाल करें – या तो आप खुद की वेबसाइट बना सकते हैं या किसी वेबसाइट से बात कर अपने प्रोडक्ट को उनकी वेबसाइट पर लिस्ट करवा सकते हैं जिसके वे आपसे वन टाइम पैसे लेंगे और आपका प्रचार करेंगे। यह बिलकुल अख़बार में विज्ञापन देने समान है पर वेबसाइट के ज़रिये पूरे देश या विदेश तक प्रचार हो जाता है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *